Follow us

पंचायत चुनाव के बाद गांवों में सुलग रही नफरत की आग

मथुरा-डीवीएनए। पंचायत चुनावों ने गांवों को नफरत की आग में झौंक दिया है। जिस ग्रामीण...
 
पंचायत चुनाव के बाद गांवों में सुलग रही नफरत की आग

मथुरा-डीवीएनए। पंचायत चुनावों ने गांवों को नफरत की आग में झौंक दिया है। जिस ग्रामीण जीवन को सौहार्द और शांति पूर्वक जीवन यापन के लिए जानाजाता है वहां नफरत की आग धधक रही है। लोग आपस में झगड रहे हंै। फौजदारियां हो रही हैं। प्रक्ष प्रतिपक्ष एक दूसरे पर हमलावर है। पुलिस घटना के बाद कार्रवाही कर रही है। यह प्रयास नकाफी साबित हो रहे हैं। शांतिप्रिय ग्रामीण जिला प्रशासन से माहौल को सामान्य करने के लिए अतिरिक्त प्रयास किये जान की जरूरत महसूस कर रहे हैं।
31 मई को छाता पुलिस द्वारा ग्राम विडावली में चुनाव परिणाम को लेकर नव निर्वाचित प्रधान व बीडीसी तथा पूर्व प्रधान के पक्षों द्वारा एक दूसरे को जान से मारने की नियत से हुये बलवा व कोविड-19 के नियम व शर्तों का उल्लंघन के आरोप में पांच लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज है।
30 मई को बल्देव क्षेत्र के दौलतपुर गांव में प्रधानी चुनाव की हार जीत को लेकर वर्तमान प्रधान व पूर्व प्रधान पक्षों के मध्य हुए संघर्ष में शामिल रहे आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। दोनों पूर्व व वर्तमान प्रधान व अन्य 8-10 व्यक्ति मौका देख कर भागने में सफल रहे। सोमवार को ग्राम पंचायत मोरा के नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान जिलाधिकारी से सुरक्षा की गुहार लगाई। गांव में पंचायत समितियों के गठन को लेकर लोग आपस में भिड गये थे। विरहना में बीडीसी सदस्य की रिहाई के लिए पिता थाना राया पर तहरीर देने के बाद भी कई दिन से भटक रहा है। गांव कारब में दो पक्ष आपस में भिड गये। पथराव में कई लोग घायल हुए हंै। एक पक्ष ने ग्राम प्रधान को नामजद किया है। नौहझील ब्लॉक के गांव मढुआ का में जीते और हारे हुए प्रधान प्रत्याशी समर्थकों के साथ झगड पडे। थाना हाइवे क्षेत्र के गांव उमरी में मतदान के लिए हुए संघर्ष के बाद तनाव बरकरार है। हारे और जीते प्रत्याशियों और उनके समर्थकों के बीच ग्राम पंचायतों में इसी तरह का तनाव बना हुआ है।
विडावली गांव से अब तक 15 को भेजा जेल
प्रभारी निरीक्षक छाता रवि त्यागी ने बताया कि चार मई को ग्राम विडावली में नव निर्वाचित प्रधान, बीडीसी तथा हारे हुए प्रधान प्रत्याशी पक्ष में चुनाव परिणाम को लेकर लडाई झगडा हो गया था। झगडे वाले दिन ही सख्त कार्रवाही कर ते हुए अशोक पुत्र बाबूलाल, अवधेश पुत्र मेघसिंह, .राजू पुत्र गुपाल, विनोद पुत्र लेखराज, दिलीप पुत्र लाखन सिंह, रघुवीर पुत्र घन्नू, सुरेश पुत्र दुर्गपाल, मोहनश्याम पुत्र अशोक, धारा पुत्र सुरेश, गंगा पुत्र गुलाब को गिरफ्तार कर लिया गया था। छह मई को रमेश चन्द पुत्र टिकम तथा 22 मई को राजकुमार पुत्र भरत सिंह, 28 मई को रवि पुत्र विजय, कोतवाल पुत्र मदन, चन्दन पुत्र जयनारायन को पूर्व में ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।
परिणाम को लेकर झगडे तो होगी सख्त कार्रवाही
चुनाव परिणाम को लेकर होने वाले किसी भी संघर्ष पर सख्त कदम उठाया जा रहा है। सोमवार को विनोद पुत्र फूल सिंह, अशोक पुत्र दुर्गपाल, मान सिंह पुत्र चुरा, रज्जो पुत्र भोजी तथा अमर सिंह पुत्र भोजी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। आरोपियों के विरूद्ध एसडीएम छाता द्वारा 122बी सीआरपीसी की कार्यवाही की जा रही है।

From around the web

Trending Videos