लाड़ली लक्ष्मी महक ने बिखेरी सफलता की महक

लाड़ली लक्ष्मी महक ने बिखेरी सफलता की महक
 
लाड़ली लक्ष्मी महक ने बिखेरी सफलता की महक

भोपाल :  लाड़ली लक्ष्मी योजना के साये में पल और बड़ रही प्रदेश की बेटियाँ अनेक क्षेत्र में अपने माता-पिता के साथ प्रदेश का नाम भी रोशन कर रही हैं। ग्वालियर की लाड़ली लक्ष्मी कु. महक पढ़ाई के साथ कराटे एवं तलवारबाजी जैसे मार्शल आर्ट में अपनी सफलता की महक बिखेर रही हैं। विपरीत शिशु लिंगानुपात के लिये जाना जाने वाले ग्वालियर – चंबल क्षेत्र के लिये लाड़ली लक्ष्मी कु. महक प्रेरणा-स्त्रोत बन गई हैं।

न्यू ग्रेसिम बिहार कॉलोनी ग्वालियर निवासी मनोज श्रीवास्तव एवं कल्पना श्रीवास्तव की लाड़ली बिटिया कु. महक श्रीवास्तव कराटे की राज्य स्तरीय ब्लैक बेल्ट विजेता हैं। पहले साल राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में महक अपनी आयु वर्ग में प्रथम और दूसरे साल द्वितीय रहीं। महक ने तलवारबाजी प्रतियोगिता में भी गोल्ड मेडल हासिल किया है।

लाड़ली लक्ष्मी योजना में पंजीकृत होने के साथ कु. महक मेधावी छात्रा भी हैं। उन्होंने 90 प्रतिशत से अधिक अंकों के साथ हाईस्कूल परीक्षा उत्तीर्ण की है।

वर्ष 2007 में कु. महक ने जब छठवीं कक्षा में दाखिला लिया तब राज्य सरकार ने लाड़ली लक्ष्मी योजना में दो हजार रूपए की छात्रवृत्ति प्रदान की। जब नौवीं कक्षा में पहुँची तब 4 हजार और 11वीं एवं 12वीं कक्षा में पढ़ाई के दौरान 6 – 6 हजार रूपए की छात्रवृत्ति हर साल मिली।

महक कहती हैं कि मुख्यमंत्री मामा शिवराज सिंह चौहान द्वारा शुरू की गई लाड़ली लक्ष्मी योजना ने बालिका सशक्तिकरण को बढ़ावा दिया है। इस योजना का सहारा पाकर आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की बेटियां नियमित पढ़ाई कर रही हैं। साथ ही माँ-बाप भी अपनी बिटिया के सुखद भविष्य को लेकर निश्चिंत हैं।

लाड़ली लक्ष्मी कु. श्रेयांशी ने ग्वालियर को दिलाया श्रेय

नन्ही-मुन्ही लाड़ली लक्ष्मी कु. श्रेयांशी शर्मा सफलता के नित नए प्रतिमान गढ़ रही है। श्रेयांशी नेशनल मैथमेटिक टैलेन्ट प्रतियोगिता में अपनी आयु वर्ग में अव्वल रही है। इसके अलावा अन्य टैलेन्ट हंट प्रतियोगिताओं में भी उन्होंने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है।

ग्वालियर के वार्ड क्र.-31 की लक्ष्मणपुरा बस्ती के निवासी  मनोज शर्मा और  तृप्ति शर्मा की होनहार बेटी श्रेयांशी का जन्म मार्च 2009 में हुआ था। श्रेयांशी जन्म से ही अपनी कुशाग्र बुद्धि का परिचय कराती रही है। स्कूल में दाखिला के बाद श्रेयांशी की प्रतिभा में और निखार आया। स्वच्छता थीम पर जिला स्तरीय चित्रकला प्रतियोगिता में वह द्वितीय स्थान हासिल कर चुकी हैं। राष्ट्रीय अलोहा प्रतियोगिता-2018 में मेंटल अर्थमेटिक केटेगिरी में पहला स्थान पाने वाली श्रेयांशी ने वर्ष 2017-18 में नेशनल मैथेमेटिक इंडियन टैलेंट प्रतियोगिता में भी 28वीं रैंक हासिल की।

From around the web

Trending Videos