कैबिनेट मंत्री रविन्द्र चौबे शपथ ग्रहण समारोह में हुए शामिल,मंडी समिति के अध्यक्ष,उपाध्यक्ष एवं सदस्यों को दिलाई शपथ

कैबिनेट मंत्री रविन्द्र चौबे शपथ ग्रहण समारोह में हुए शामिल,मंडी समिति के अध्यक्ष,उपाध्यक्ष एवं सदस्यों को दिलाई शपथ
 
कैबिनेट मंत्री रविन्द्र चौबे शपथ ग्रहण समारोह में हुए शामिल,मंडी समिति के अध्यक्ष,उपाध्यक्ष एवं सदस्यों को दिलाई शपथ

बलौदाबाजार : कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा के शपथ ग्रहण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में संसदीय कार्य, कृषि एवं जैव प्रोद्योगिकी,पशुधन विकास, मछलीपालन, जल संसाधन एवं आयाकट मंत्री  रविन्द्र चौबे शामिल हुए। उन्होने नवनिर्वाचित कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा के अध्यक्ष  सुशील शर्मा, उपाध्यक्ष चित्रलेखा साहू समेत अन्य सदस्यों को शपथ दिलाई। इस मौके पर कृषक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष सुरेन्द्र शर्मा, छ.ग.पाठ्य पुस्तक के अध्यक्ष  शैलेष नितिन त्रिवेदी, खनिज विकास निगम अध्यक्ष  गिरीश देवांगन, पूर्व विधायक भाटापारा चैतराम साहू, पूर्व विधायक बलौदाबाजार  जनकराम वर्मा, जिला पंचायत उपाध्यक्ष सरिता ठाकुर, जिलाध्यक्ष हितेन्द्र ठाकुर,  विद्याभूषण शुक्ल, सदस्य कर्मकार मण्डल सतीश अग्रवाल, नगर पालिका परिषद भाटापारा अध्यक्ष सुनीता गुप्ता, उपाध्यक्ष  त्रिलोक सिंह सलुजा, कलेक्टर  रजत बंसल,पुलिस अधीक्षक  दीपक झा सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि गण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।


मंत्री  चौबे ने किसानों को सौगात देते हुए मंडी परिसर में एक नवीन किसान भवन बनाने एवं जर्रर हुए शेड को नवीन शेड में बदलने की घोषणा की है। साथ ही जिला प्रशासन को नवीन मंडी प्रागंण हेतु स्थल चयन हेतु निर्देशित किया गया है। उन्होनें कृषि एवं किसानों के हित में किए जा रहे कार्यों के बारे में गिनाते हुए कहा कि आज छत्तीसगढ़ का किसान सशक्त और आर्थिक रूप से मजबूत हो रहा है। हम जैविक कृषि की तरफ  बढ़ रहे है। हमने गौठान एवं गौधन न्याय योजना के माध्यम से पैमाने में वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन कर रहे है। हमने लगभग 150 करोड़ की वर्मी कम्पोस्ट का विक्रय किया गया है। जिसमें 147 करोड़ पुनः गौठान समिति एवं महिला स्व सहायता समूह के पास वापस आया है। वर्मी कम्पोस्ट को किसान हाथों हाथ स्वीकार कर रहा है। हमने गौठान के माध्यम से 1 लाख महिला समूहो को रोजगार मुहैया करा रहे है। इसके साथ ही हमने गौठान के माध्यम से 1.50 लाख हेक्टेयर शासकीय भूमि को सुरक्षित कर लिए है। जिससे छत्तीसगढ़ की अस्मिता दैहान संस्कृति को पुर्नजीवन मिला है। इसके साथ ही हम किसानों के अतिरिक्त उत्पादित हो रहे चांवल से हम बायो एथिनॉल बनाने के लिए भी लगातार प्रयासरत है। उक्त कार्यक्रम में पोहा एवं मुरमुरा मिल एसोसिएशन,दाल मिल एसोसिएशन, राइस मिल एसोसिएशन, अभिकर्ता संघ कृषि उपज मंडी भाटापारा के विभिन्न पदाधिकारी गण बड़ी संख्या में उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन  देवेन्द्र भृगु द्वारा किया गया। उक्त कार्यक्रम में आसपास ग्रामीणों सहित स्थानीय प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मिडिया के प्रतिनिधि गण भी उपस्थित रहे।

From around the web

Trending Videos