Follow us

भारत निर्माण में इन्दिरा जी के योदान को भुला नहीं जा सकता : कांग्रेस

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की 104वीं जयंती के उपलक्ष दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष...
 
भारत निर्माण में इन्दिरा जी के योदान को भुला नहीं जा सकता : कांग्रेस

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की 104वीं जयंती के उपलक्ष दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन में स्वर्गीय इंदिरा गांधी की जयंती के उपलक्ष में श्रद्धांजलि अर्पित की।इस मौके पर कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता व कांग्रेस कार्यकर्ता भी मौजूद थे। इन्दिरा गांधी के जन्मदिवस पर आज सशक्त भारत निर्माण में इन्दिरा जी के योदान के विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन श्री सत्य सांई ऑडिटोरियम, लोधी रोड़ नई दिल्ली में किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव मुकुल वासनिक तथा वक्ता के रूप में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोहन प्रकाश, इतिहासविद अशोक कुमार पाण्डेय तथा सेन्टर फॉर मीडिया स्टडीज, जवाहर लाल नेहरू युनिवर्सिटी प्रौ. राकेश बटब्याल उपस्थित थे।

इस अवसर पर लौह महिला स्व: श्रीमती इन्दिरा गांधी जी की जीवन शैली पर प्रकाश डालते हुऐ ऑडिटोरियम में उपस्थित सभी कांग्रेसियों को उनकी जीवन शैली पर एक वीडियों भी दिखाई गई। अनिल कुमार ने श्री सत्य सांई ऑडिटोरियम, लोधी रोड़ नई दिल्ली में इन्दिरा जी तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि केवल श्रीमती इन्दिरा जी ही अपने समय में एक ऐसी नेता थी जिन्होंने धर्मनिरपेक्षता व समानता के आधार पर भारत को विश्व में शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में स्थापित किया। इन्दिरा ने परमाणु परीरक्षण कर दुनिया को यह आभास कराया कि भारत के वैज्ञानिक तकनीक के मामले में किसी से पीछे नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर इन्दिरा जी नहीं होती तो क्या पाकिस्तान विभाजन व बांग्लादेश बन सकता था? क्या सिक्कित का भारत में विलय हो सकता था। अनिल कुमार ने श्री सत्य सांई ऑडिटोरियम मे आयोजित संगोष्ठी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुऐ लौह महिला स्व: श्रीमती इन्दिरा गांधी जी की 104वीं जयन्ती के उपलक्ष में उनके बलिदान व योगदान के बारे में बताते हुऐ कहा कि हम सभी को इन्दिरा जी के आर्दशों को मानते हुऐ उनके द्वारा बताए गए रास्ते पर चलना चाहिए।

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि श्रीमती इन्दिरा गांधी जी ने किसानों को बहुत सम्मान दिया था लेकिन मोदी सरकार ने तीन काले किसान विरोधी कानूनों को रद्द करने के बारे में तब सोचा जब लगभग 700 किसानों ने दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन करते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी। अनिल कुमार ने कहा कि प्रधान मंत्री के रूप में इंदिरा जी के शासनकाल के दौरान, उन्होंने देश की सैन्य शक्ति को साबित करने के लिए परमाणु परीक्षण किए। उन्होंने बताया कि श्रीमती इन्दिरा जी महिलाओं और युवाओं के सशक्तिकरण के लिए दुनिया भर से प्रशंसा मिली। इन्दिरा जी ने अपने प्रगतिशील नीतियों और कार्यक्रमों के कारण हर भारतीय के दिलों में एक स्थायी स्थान बनाया। मुकुल वासनिक ने कहा कि इंदिरा जी को गरीबों के प्रति बड़ी दया थी और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के जेजे क्लस्टर में रहने वालों को आवासीय भूखंड देने के उनके निर्णय ने झोंपडिय़ों में रहने वाले लाखों गरीब लोगों के जीवन को एक नया अर्थ और दिशा दी। उन्होंने कहा कि भाजपा और आम आदमी पार्टी जैसी पार्टियों के पास गरीबों के लिए कोई योजना नहीं है, कांग्रेस हमेशा दलितों को बेहतर जीवन देने के लिए मदद करती आई है और करती रहेगी।इस अवसर पर चौ. अनिल कुमार ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन पर भी स्व: श्रीमती इन्दिरा जी को पुष्पांजलि अर्पित की और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुऐ कहा कि आज कांग्रेस पार्टी व भारत के अन्नदाता किसानों की जीत का भी जश्न है क्योंकि अखिल भारतीय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी जी के लगातार तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ आवाज उठाने के कारण आज केन्द्र की मोदी सरकार को झूकना पड़ा और लगभग 700 अन्नदाता किसानों की शहादत के बाद इन तीन काले कृषि कानूनों को वापस लेना ही पड़ा।

उन्होंने कहा कि अगर केन्द्र की मोदी सरकार समय रहते हमारे आदरणीय नेता श्री राहुल गांधी जी की बात मान लेती तो आज लगभग 700 किसान शहीद न होते। उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस पार्टी के साथ-साथ भारत के उन अन्नदाता किसानों की जीत है जो भगभग पिछले 11 महीने से इन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली के बोर्डरों पर खुले आसमान के नीचे हर मौसम का सामना करते हुऐ धरने पर बैठे थे।

From around the web

Trending Videos