Follow us

बूथ कमेटियां तय करेंगी भाजपा विधायकों का भविष्य

नई दिल्ली-डीवीएनए। चुनावी राज्यों में भाजपा विधायकों के भविष्य का फैसला बूथ कमेटियां करेंगी। पार्टी...
 
बूथ कमेटियां तय करेंगी भाजपा विधायकों का भविष्य

नई दिल्ली-डीवीएनए। चुनावी राज्यों में भाजपा विधायकों के भविष्य का फैसला बूथ कमेटियां करेंगी। पार्टी नेतृत्व ने विधायकों को टिकट देने के मामले में बूथ कमेटियों के समर्थन को आवश्यक पैमाना बनाया है। पार्टी बूथ कमेटियों और निजी एजेंसियों के जरिए विधायकों का रिपोर्ट कार्ड भी तैयार करेगी। पार्टी की रणनीति सितंबर महीने तक सभी राज्यों में उम्मीदवारों का पैनल तैयार कर लेने का है।
पार्टी सूत्रों ने बताया कि जिन सीटों पर पार्टी के विधायक हैं, उन सीटों पर सभी बूथ कमेटियों अलग-अलग राय ली जाएगी। इसके अलावा निजी एजेंसियों के जरिए एक-एक सीट पर आम लोगों से विधायक के संदर्भ में राय ली जाएगी। इसके आधार पर विधायकों का रिपोर्ट कार्ड बनाया जाएगा। जाहिर तौर पर अगर बूथ कमेटियों ने कामकाज और प्रदर्शन को संतोषजनक नहीं माना तो ऐसे विधायकों के लिए टिकट हासिल करना मुश्किल होगा। इस स्थिति में पार्टी बूथ कमेटियों से ही विधायक का विकल्प सुझाने के लिए भी कहेगी।
नाराजगी कम करने की कवायद
पार्टी संगठन से जुड़े एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक कई बार विधायक से स्थानीय लोगों की नाराजगी से बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। सरकार के पक्ष में नकारात्मक माहौल न होने के बावजूद बेहतर प्रदर्शन न करने वाले विधायक के खिलाफ स्थानीय स्तर पर नाराजगी चुनावी समीकरण बिगाड़ देती है। चूंकि अगले साल जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, उनमें अधिकांश पार्टी शासित राज्य हैं। ऐसे में इन राज्यों में हार या जीत से व्यापक राजनीतिक धारणा तैयार होगी। ऐसे में टिकट वितरण के मामले में अतिरिक्त सावधानी बरतने जा रही है।
बूथ कमेटियां देंगी विधायक के प्रदर्शन का लेखा जोखा
बूथकमेटियां एक प्रश्नावलि की सहायता से विधायकों का लेखा जोखा देगी। मसलन विधायक पार्टी के कार्यक्रम में कितनी बार उपस्थित हुए? पूरे कार्यकाल के दौरान जन समस्याओं के निपटारे में कितनी दिलचस्पी दिखाई? विकास कार्यों को कराने में विधायक की कैसी भूमिका रही? और विधायक के प्रति लोगों की कैसी धारणा है, जैसे सवालों के जवाब अलग-अलग बूथ कमेटियों से हासिल किया जाएगा। इसके अलावा निजी एजेंसियों के माध्यम से भी आम लोगों की राय ली जाएगी।
अगस्त तक रिपोर्ट कार्ड होगा तैयार
सभी चुनावी राज्यों के विधायकों का रिपोर्ट कार्ड अगस्त तक हर हाल में तैयार कर लिया जाएगा। इसी महीने के अंत तक अलग-अलग सीटों के लिए उम्मीदवारों का पैनल भी तैयार कर लिया जाएगा।

From around the web

Trending Videos